संबद्ध महाविद्यालय संघर्ष समिति के तत्वधान मे आज LNMU दरभंगा मुख्यालय पर अपनी मंगो को लेकर धरना/ प्रदर्शन किया गया।

संबद्ध महाविद्यालय संघर्ष समिति के तत्वधान मे आज LNMU दरभंगा मुख्यालय पर अपनी मंगो को लेकर धरना/ प्रदर्शन किया गया।

संबद्ध महाविद्यालय संघर्ष समिति के तत्वधान मे आज ल 0 ना ० मिथिला विश्वविद्यालय दरभंगा मुख्यालय पर अपनी मंगो को लेकर धरना/ प्रदर्शन किया गया ,जिसकी अध्यक्षता संघर्ष समिति के अध्यक्ष सह बिहार प्रदेश जद ० यू० शिक्षा प्रकोष्ठ के उपाध्यक्ष डा राम मोहन झा ने किया ।

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए संघर्ष समिति के कार्यकारी अध्यक्ष श्री उदय शंकर मिश्रा ने कहा कि न्यायादेश से राजभवन की अनुशंसा से बिहार सरकार ने माना कि महाविद्यालय अपने आंतरिक स्रोत से 70% कर्मचारियों को एवं शिक्षकों को भुगतान करें जो आज तक नहीं हुआ जिसका आदेश लगभग 1 साल पहले हुआ। शिक्षा कर्मियों को इपीएफ सुविधा तत्काल मिलने चाहिए साथी घाटा अनुदान सरकार को देना चाहिए। कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए डा राम मोहन झा ने कहा कि विश्वविद्यालय के सभी संबद्ध महाविधालयों द्वारा बड़े पैमाने पर आंतरिक श्रोत से प्राप्त राशि की वर्षों से लूट खसोट किया जा रहा है । वहीं माननीय उच्च न्यायालय पटना के आदेश के आलोक में राज्य सरकार के शिक्षा विभाग द्वारा दिए गए पत्र के आलोक में आंतरिक श्रोत से प्राप्त आय का 70 प्रतिशत वितरण कर्मियों के बीच नहीं किया जा रहा है इसका सबसे बडा उदाहरण अयाची मिथिला महिला महाविद्यालय , बहेड़ा, बेनीपुर है । वहाँ वर्षों से आंतरिक श्रोत से प्राप्त आय तथा प्रेकिटकल के नाम पर वसुले गए लाखों रुपये का बंदरबाट कर लिया गया है । दिनाक 18.10.2017 को महाविद्यालय द्वारा आंतरिक श्रोत से 16200 के चेक पर शिक्षकों से हस्ताक्षर करा कर नगद 7500 रुपये दिया गया, तृतीय वर्गीय कर्मचारी से 13200 के चेक पर हस्ताक्षर कराकर 6000 रुपये दिया गया, चतुर्थ वर्गीय कर्मचारी से 10200 के चेक पर हस्ताक्षर करा कर 4500 रुपया नगद दिया गया । पैसा देकर तत्कालिन वर्सर रमेश कुमार ठाकुर एवं सेन्ट्रल बैंक आशापुर , बेनीपुर मैनेजर द्वारा मिलीभगत कर सभी चेकों को भुना लिया गया जो एक आर्थिक अपराध है इस प्रकार से करीब 16 लाख रुपयों से ऊपर की लूट खसोट कर लिया गया है । वर्तमान में शासी निकाय का गठन 11.10.2019 को किया गया जिसमे प्रभारी प्राचार्य, विश्वविद्यालय प्रतिनिधि, एसडीओ बेनीपुर शामिल होकर शासी निकाय का गठन कर लिया गया जो पूर्ण रूप से अवैध है । इतना ही नहीं प्रभारी प्राचार्य की नियुक्ति भी अवैध है जिन्हें नियम / परिनियम के विरुद्ध बहाल कर दिया गया है । इस प्रकार से देखा जाय तो दो लोग मिलकर ही शासी निकाय का गठन कर लिया है । आश्चर्य है कि अवैध रूप से गठित शासी निकाय आंतरिक श्रोत की राशि तथा प्रेक्टिकल के नाम पर वसूली गई राशि का बंदाबाँट कर लिया गया । इसमे शामिल लोगों में पूर्व वर्सर रमेश कुमार ठाकुर जिनका कार्यकाल पूर्व में ही समाप्त हो गया है कॉलेज के पैसे से वे आशापुर में बहुत बड़ा व्यापार करते हैं उनकी सम्पति की जाँच की आवश्यकता है । वहीं लेखापाल विजय कुमार झा जो इस लूट खसोट मे शामिल होकर काफी सम्पत्ति अर्जित किए हैं उसकी भी जाँच की आवश्यकता है । वहीं अवैध रूप से चुने गए वर्तमान सचिव डा दिलिप कुमार चौधरी , पूर्व विधान पार्षद द्वारा चुनाव के कारण नियम / परिनियम की अनदेखी कर आंतरिक श्रोत का बंदरबाट कर दिया गया है । मै विश्वविद्यालय के प्रभारी कुलपति से मांग करता हूँ कि सभी संबद्ध द् महाविद्यालयों के आंतरिक श्रोत से प्राप्त राशि का सी ए जी से अंकेक्षण कराने तथा निगरानी विभाग से जॉच कराने की अनुशंसा बिहार सरकार तथा महामहिम कुलाधिपति सह राज्यपाल महोदय से किया जाए । साथ ही 2012 से 2020 तक का अनुदान का भी भुगतान शिघ्र किया जाए अन्यथा विश्वविद्यालय मुख्यालय पर भूख हड़ताल प्रारम्भ किया जाएगा जिसकी जबाबदेही विश्वविद्यालय प्रशासन पर होगी ।

कार्यक्रम को सम्बोधित करने वाले प्रमुख लोगों में प्रो० उदय शंकर मिश्र, डा० कुशेश्वर सहनी, प्रो० ज्योति रमण झा, प्रो० अंजनी कुमार सिन्हा, प्रो० मदन कुमार यादव, प्रो० रमण कुमार झा, प्रो० सवता वर्मा, प्रो० सुनिता झा, प्रो० हीरा कुमारी, प्रो० तरुण मंडल, प्रो० राम लखन सिंह, प्रो० विनय पासवान, प्रो० विनोदानन्द झा, प्रो० नुरुल्लाह अंसारी, प्रो० शशि नाथ चौधरी, प्रो० मतलुव हुसैन, प्रो० इन्द्र मोहन चौधरी, प्रो० विरेन्द्र कुमार, प्रो० प्रवीण कुमार मिश्र, प्रो० सुनील मिश्र, प्रो० रमानन्द ठाकुर, प्रो० अशोक कुमार वर्मा, प्रो० श्यामल कुमार आदि थे । दिन के 10 बजे से धरना स्थल पर धरना दिया गया तथा दिन के एक बजे सैकड़ों संबद्ध महाविद्यालय के शिक्षक एव शिक्षकेत्तर कर्मचारियों द्वारा विश्वविद्यालय पर अपनी माँगों को लेकर जोरदार प्रदर्शन किया गया । प्रदर्शन में दर्जनों महिला शिक्षक भी शामिल थी । प्रदर्शन के बाद मांगों से संबंधित ज्ञापन प्रभारी कुलपति को सौपा गया । डा० राम मोहन झा अध्यक्ष

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *