Darbhanga:अनसीन एलोकेन्ट्स ने आयोजित किया युवा कवि सम्मेलन। Aazad News

साहित्य एवं साहित्कारों के विकास हेतु पिछले डेढ़ वर्षो से कार्यरत संगठन, अनसीन एलोकेन्ट्स ने 11 अक्टूबर को नाट्य विभाग, ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय में युवा कवि सम्मेलन का आयोजन किया, जिसमे मिथिलांचल के काफ़ी प्रसिद्ध युवा कविगण सम्मलित हुए।

आयोजित युवा कवि सम्मेलन की शुरुआत संगठन के संस्थापक यश जुमनानी के स्वागत भाषण से हुई, और फिर युवा कवि आचार्य भास्कर ने मैथिली कविता पछिला उपलब्धि शून्य भेल और शब्द प्रहार, राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित युवा कवि मुशर्रफ़ परवेज ने बेटियां और माँ, पेशेवर शिक्षक रौशन कुमार राही ने मानव दानव, युवा कवियत्री दुर्गा खत्री ने पिता और न्याय के दो पहलू, ऋषभ झा ने हो सके तो लौट आना, सुमित श्री ने सांकेतिक लिपि, आकाशवाणी उद्घोषक श्री अखिलेश कुमार झा ने मैथिली रचना बात बात में, प्रभात कुमार झा ने मैं अक्सर चाँद से पूछता हूँ, रंगमंच प्रशिक्षक एवं युवा कवि सागर सिंह ने बहते हुए किसी शाम को, पेशेवर शिक्षक मोहन मुरारी ने ऐसी है मेरी प्रियशी और विश्व राज, निखिल मिश्रा, अंजली झा ने भी अपनी कवितायें सुनाई।

इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि वरिष्ठ पत्रकार श्री संतोष दत्त झा थे, एवं इस कार्यक्रम की अध्यक्षता चंद्रधारी मिथिला विज्ञान महाविद्यालय के वर्तमान मैथिली विभागाध्यक्ष एवं वरिष्ठ कवि डॉ सत्येंद्र कुमार झा ने की और साथ ही अपनी मैथिली कविता जिन्नगी के समेटी छीरिआयल बहुत अछि और चाह कर भी इश्क़ कहाँ होता है कविताएं सुनाई। इस युवा कवि सम्मेलन का संचालन युवा कवि उज्ज्वल राज ने किया और धन्यवाद ज्ञापन पूजा मिश्रा ने दिया, कोरोना से बचाव हेतु जारी निर्देशों का पालन करते हुए कार्यक्रम को सीधा प्रसारण फेसबुक लाइव के माध्यम से किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *